HTML क्या है | what is html in hindi


-1

जब हम इंटरनेट पर कार्य करते है तो हमे वेबपेज दिखाई देते है इन वेबपेज को देखकर हमारे मन मे कई सवाल उठते है की ये वेबपेज कैसे बनाए जाते है। आपकी जानकारी के लिए मैं ये बताना चाहूँगा की ये वेब पेज एचटीएमएल भाषा द्वारा बनाए जाते है इस पोस्ट मे हम what is html in hindi , HTML क्या है , HTML का इतिहास , HTML की विशेषताएं क्या है के बारे मे जानेंगे ।

HTML एक क्लाइंट साइड स्क्रिप्टिंग लैंग्वेज है। जिसका प्रयोग स्टैटिक वेबपेज डिज़ाइन करने के लिए किया जाता है। HTML का फुल फॉर्म हाइपर टेक्स्ट मार्कअप लैंग्वेज (Hyper Text Markup Language) है जिसमे Hyper का मतलब रेफरेन्स लिंक या हाइपरलिंक के तौर पर किया जाता है। Text डेटा को इंगित करता है Markup किसी लिंक को मार्क करने के लिए तथा Language को कम्युनिकेशन के लिए इंगित किया जाता है

यह प्रोग्रामिंग लैंग्वेज नहीं है बल्कि यह एक मार्कअप लैंग्वेज है। मार्कअप लैंग्वेज में मार्कअप टैग्स का सेट होता है और उनका प्रयोग करके वेब पेज की डिज़ाइन की जाती है। प्रत्येक वेबपेज का डिज़ाइन HTML में ही किया जाता है।HTML में बने पेज का एक्सटेंसन   .html या  .htm होता है।

HTML में प्रोग्राम लिखने के लिए एडिटर का प्रयोग किया जाता है, सामान्यतया एडिटर के लिए नोटपेड का प्रयोग किया जाता है। HTML में बने हुए वेबपेज को ओपन करने के लिए जिन प्रोग्राम का उपयोग किया जाता है उन्हें वेब ब्राउज़र कहते है प्रमुख वेब ब्राउज़र में इंटरनेट एक्स्प्लोरर, गूगल क्रोम , सफारी, मोज़्ज़िला फ़ायरफ़ॉक्स है। ब्राउज़र HTML टैग प्रदर्शित नहीं करते हैं, लेकिन पेज की सामग्री को प्रस्तुत करने के लिए उनका उपयोग करते हैं

what is html history in hindi ( HTML का इतिहास )

1980 के दशक के अंत में, एक भौतिक विज्ञानी, टिम बर्नर्स-ली, जो सर्न में एक ठेकेदार थे, ने सर्न शोधकर्ताओं के लिए एक प्रणाली का प्रस्ताव रखा। 1989 में, उन्होंने एक इंटरनेट आधारित हाइपरटेक्स्ट प्रणाली का प्रस्ताव ज्ञापन लिखा।

टिम बर्नर्स-ली को HTML के पिता के रूप में जाना जाता है। HTML का पहला उपलब्ध विवरण 1991 के अंत में टिम द्वारा प्रस्तावित “HTML टैग” नामक एक दस्तावेज था। HTML का नवीनतम संस्करण HTML5 है, जिसे हम बाद में इस ट्यूटोरियल में सीखेंगे।

what is html tags in hindi

HTML में tags का प्रयोग करके ही वेब पेज बनाये जाते है टैग्स को <  > के बीच लिखा जाता है अधिकतर टैग्स के जोड़े होते है उन्हें दो भागो में बनता जाता है पहला ओपनिंग टैग्स और दूसरा क्लोजिंग टैग्स ओपनिंग टैग्स को < > के मध्य लिखा  और क्लोजिंग टैग्स को </  > के मध्य लिखा जाता है।
टैग कंटेनर की तरह काम करते हैं। वे आपको उस जानकारी के बारे में कुछ बताते हैं जो उनके खुलने और बंद होने के टैग के बीच होती है।

जैसे : <b>Computer Hindi Notes </b>

यहाँ पर Computer Hindi Notes टेक्स्ट<b> और </b> के मध्य लिखा गया है जहा <b> ओपनिंग टैग है तथा </b> क्लोजिंग टैग है। ध्यान देने योग्य बात यह है की किसी टैग का प्रभाव जब तक बना रहता है जब तक की उसका क्लोजिंग टैब नहीं लगाया जाता है।

सामान्य HTML program :

<!DOCTYPE html>
<html>
<head>
<title>Page Title</title>
</head>

<body>

<h1>My First Heading </h1>

<p> My first paragraph </p>

</body>

</html>

<!DOCTYPE html>  :  यह घोषित करता है की यह डॉक्यूमेंट HTML5 में बनाया  गया है।

<html> : यह HTML पेज का रुट है।

<head> : इस टैग के द्वारा वेब पेज में meta information डाली जाती है।

<title> : इस टैग का प्रयोग वेबपेज को टाइटल देने के लिए किया जाता है।

<body> : इस टैग में वेबपेज में दिखने योग्य जानकारी दी जाती है।

<h1> : इस टैग के द्वारा बड़े आकर में शीर्षक देने के लिए किया जाता है।

<p> : इस टैग का प्रयोग पैराग्राफ के लिए किया जाता है।

HTML संस्करण

चूंकि HTML का आविष्कार किया गया था, इसलिए बाजार में बहुत सारे HTML संस्करण हैं, HTML संस्करण के बारे में संक्षिप्त परिचय नीचे दिया गया है:

HTML 1.0: HTML का पहला संस्करण 1.0 था, जो HTML भाषा का नंगे संस्करण था, और इसे in1991 में जारी किया गया था।

HTML 2.0: यह अगला संस्करण था जो 1995 में जारी किया गया था, और यह वेबसाइट डिजाइन के लिए मानक भाषा संस्करण था। HTML 2.0 अतिरिक्त विशेषताओं जैसे फ़ॉर्म-आधारित फ़ाइल अपलोड, फ़ॉर्म तत्वों जैसे टेक्स्ट बॉक्स, विकल्प बटन, आदि का समर्थन करने में सक्षम था।

HTML 3.2: HTML 3.2 संस्करण W3C द्वारा 1997 की शुरुआत में प्रकाशित किया गया था। यह संस्करण तालिका बनाने और फॉर्म तत्वों के लिए अतिरिक्त विकल्पों के लिए सहायता प्रदान करने में सक्षम था। यह जटिल गणितीय समीकरणों के साथ एक वेब पेज का भी समर्थन कर सकता है। यह जनवरी 1997 तक किसी भी ब्राउज़र के लिए एक आधिकारिक मानक बन गया। आज यह व्यावहारिक रूप से अधिकांश ब्राउज़रों द्वारा समर्थित है।

HTML 4.01: HTML 4.01 संस्करण दिसंबर 1999 को जारी किया गया था, और यह HTML भाषा का एक बहुत ही स्थिर संस्करण है। यह संस्करण वर्तमान आधिकारिक मानक है, और यह स्टाइलशीट (सीएसएस) और विभिन्न मल्टीमीडिया तत्वों के लिए स्क्रिप्टिंग क्षमता के लिए अतिरिक्त समर्थन प्रदान करता है।

HTML5: HTML5 हाइपरटेक्स्ट मार्कअप भाषा का नवीनतम संस्करण है। इस संस्करण का पहला मसौदा जनवरी 2008 में घोषित किया गया था। दो प्रमुख संगठन हैं एक W3C (वर्ल्ड वाइड वेब कंसोर्टियम), और दूसरा एक WHATWG (वेब ​​हाइपरटेक्स्ट एप्लीकेशन टेक्नोलॉजी वर्किंग ग्रुप) है जो HTML 5 संस्करण के विकास में शामिल है। , और फिर भी, यह विकास के अधीन है।

HTML की विशेषताएं

1) यह बहुत आसान और सरल भाषा है। इसे आसानी से समझा और संशोधित किया जा सकता है।

2) HTML के साथ एक प्रभावी प्रस्तुति करना बहुत आसान है क्योंकि इसमें बहुत सारे Formatting टैग हैं।

3) यह एक मार्कअप भाषा है, इसलिए यह टेक्स्ट के साथ-साथ वेब पेजों को डिजाइन करने का एक लचीला तरीका प्रदान करती है।

4) यह प्रोग्रामर को वेब पेजों (html एंकर टैग द्वारा) पर एक लिंक जोड़ने की सुविधा प्रदान करता है, इसलिए यह उपयोगकर्ता के ब्राउज़िंग की रुचि को बढ़ाती है।

5) यह प्लेटफ़ॉर्म-इंडिपेंडेंट है, क्योंकि इसे किसी भी प्लेटफ़ॉर्म जैसे विंडोज, लिनक्स और मैकिन्टोश आदि पर प्रदर्शित किया जा सकता है।

6) यह वेब पेज पर ग्राफिक्स, वीडियो और साउंड को जोड़ने के लिए प्रोग्रामर को सुविधा प्रदान करता है जो इसे और अधिक आकर्षक और इंटरैक्टिव बनाता है।

7) HTML एक केस-असंवेदनशील भाषा है, जिसका अर्थ है कि हम लो-केस या अपर-केस में टैग का उपयोग कर सकते हैं।

आपको हमारी HTML क्या है | what is html in hindi पोस्ट कैसी लगी कृपया इसके बारे में अवश्य कमेंट करे जिससे हमें पोस्ट को और अधिक उन्नत बनाने में सहायता मिलेगी धन्यवाद


Like it? Share with your friends!

-1
vikram

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *